Tally kya hai | टैली का उपयोग? DigiTechHindi

Tally kya hai | टैली का उपयोग? DigiTechHinid

 
Tally kya hai | टैली का उपयोग

 आज इस आर्टिकल में हम जानेंगे कि अकेली क्या होता है तेली का इस समय क्या होता है दिल्ली के कितने वर्षों से दिल्ली का किस समय किस किस क्षेत्र में होता है टेली के इस्तेमाल से आप क्या कर सकते हैं दिल्ली लीगल है इमली के लिए दिल्ली से क्या-क्या होता है यह सब आप इस टॉपिक में जान सकते हैं
टैली का उपयोग आप अपने व्यवसाय में अकाउंट करने के लिए कर सकते हो यहां कई सारे लोग व्यवसाय से प्रमाण पत्र से संबंधित होते हैं क्या आप इतने लोग ऐसे भी होते हैं जिसको एक अकाउंट इस उम्र में रस होता है जिसको एक दूसरे थोड़ी है नौकरियां करनी होती है उसके बारे में आर्टिकल है कि क्यों आऊं क्या है उसमें टैली का यूज किया है तेल के इस्तेमाल से क्या होता है
कंप्यूटर की मदद से अकाउंट को नियंत्रित करने के लिए टैली सॉफ्टवेयर काफी बेहतरीन विकल्प साबित हुआ है जिसकी वजह से व्यवसाय तथा अध्यक्ष करके एकाउंटिंग से जुड़े कार्य काफी आसान और सटीक एक हो गए हैं वैसे तो बहुत से लोग नीचे ले सॉफ्टवेयर के बारे में सुना होता है पर अगर सोच में आपको इतना संपूर्ण ज्ञान प्राप्त नहीं हो पाता इसके लिए अनिवार्य है कि आपको पूरा ज्ञान आवश्यक हो इस लेख के द्वारा आपको दिल्ली के बारे में जितनी भी जानकारी चाहिए वह सारी जानकारी आपको मिल जाएगी और जो भी इस सॉफ्टवेयर में दिलचस्पी रखते हैं अपनी उसकी सारी जानकारी इस शहर के बारे में इस आर्टिकल में उपलब्ध हो जाएगी
यहां हम आपको टेली का इतिहास परिचय तेल का उपयोग विभिन्न वर्जन के नाम यह सॉफ्टवेयर किस प्रकार से और कौन से उपकरणों के कार्यकर्ता है इत्यादि के बारे में जानकारी देंगे
यही आधुनिक युग में जहां पर सारे काम तकनीक की मदद से होते हैं वहां विभिन्न सॉफ्टवेयर को व्यवसाय और अन्य क्षेत्रों में प्रमुखता से उपयोग के लिए एक बनाया जाता है ठीक इसी तरह कुछ दशकों पहले हिसाब किताब बिलिंग रसीद इत्यादि को कागज पर हाथों से बनाने का अधिक प्रचलन हुआ करता था जैसे कि एक अकाउंट उसमें भी आज का दौर आता था सारे वह सारे मुद्दे थे कागज पर लिखे हुए हिसाब किताब में बहुत सारी कमियां थी इसमें बहुत सारी गलतियां भी हो सकती थी इसलिए टेली बनाया गया पहले की मदद से आप एकाउंटिंग को जल्द से जल्द और सरल तरीके से एक कर सकते हैं
 ऐसी कि हमने आपको बताएगा पहले के जमाने में हिसाब किताब करने के लिए कागज पर लिखना पड़ता था उसमें कहीं सारी मुश्किलों का सामना करना पड़ता था इसी तरह की तकलीफ होगा शाम को भी हुआ करता था जिसका टेक्सटाइल का कच्चा सप्लाई करने का व्यवसाय था इस बार इन्होंने हिसाब किताब के आंकड़े में दिक्कत हो रही थी साथी कागज पर हुए हिसाब किताब को संभालना भी जोखिम भरा कार्य था इसी मुश्किल का नियंत्रण लाने के लिए गोयंका कंप्यूटर एकाउंटिंग के लिए एक सॉफ्टवेयर का आविष्कार कब हुआ
श्याम सुंदर गोयंका जी ने अपने सुपुत्र श्री भारत गोयंका जी के साथ मिलकर साल 1986 मैं एम एस दोस्त नाम के सॉफ्टवेयर बनाए जो के आगे चलकर टेली सॉफ्टवेयर के नाम से मशहूर हुए टेली सॉफ्टवेयर के विभिन्न वर्जन हुए टैली फॉर पॉइंट वाइफ टैली 4.6.3 टैली 7.2 टैली 8.1.0 टैली इआरपी 9

0 Comments

Post a Comment

If you have any doubts, Please let me know